मुथुस्वामी दीक्षितार

मुथुस्वामी दीक्षितार

जन्म: 24 मार्च, 1775 जन्म स्थान: तिरुवरुर, तंजावुर (तमिलनाडु) निधन: 21 अक्टूबर, 1835 कार्यक्षेत्र: कर्नाटक संगीत के निर्माण तथा भारतीय...
एल. सुब्रमण्यम

एल. सुब्रमण्यम

जन्म: 23 जुलाई, 1947 चेन्नई (तमिलनाडु) कार्यक्षेत्र: वायलिन वादक, भारतीय शास्त्रीय संगीत के प्रतिपादक एल. सुब्रमण्यम एक प्रतिभाशाली भारतीय वायलिन वादक,...
त्यागराज

त्यागराज

जन्म: 4 मई, 1767 तंजावुर (तमिलनाडु) भारत मृत्यु: 6 जनवरी, 1847 कार्यक्षेत्र: संगीत, कविता तथा भक्ति साहित्य की रचना करना...
देबू चौधरी

देबू चौधरी

जन्म: 1935 (मायमेंसिंग, वर्तमान बांग्लादेश) वर्तमान निवास स्थान: चितरंजन पार्क, नई दिल्ली (भारत) कार्यक्षेत्र: सितार वादक और संगीत शिक्षक पंडित...
अन्नपूर्णा देवी

अन्नपूर्णा देवी

जन्म: 23 अप्रैल, 1927 (मैहर, मध्य प्रदेश) कार्यक्षेत्र: भारतीय शास्त्रीय संगीत की विशेषज्ञ एवं सुरबहार (बास का सितार) की उस्ताद...
आनंद महिंद्रा

आनंद महिंद्रा

जन्म : 1 मई, 1955 मुम्बई, भारत वर्तमान : महिंद्रा एंड महिंद्रा समूह के उपाध्यक्ष और प्रबंध निदेशक कार्यक्षेत्र :­­...
अनलजीत सिंह

अनलजीत सिंह

जन्म : 11 जनवरी, 1954 (दिल्ली), भारत वर्तमान: ‘मैक्स इंडिया लिमिटेड’ के संस्थापक और अध्यक्ष कार्यक्षेत्र : हेल्थकेयर, लाइफ इंश्योरेंस...

Latest Articles

अंजलि इला मेनन

जन्म:1940, वेस्ट बंगाल कार्यक्षेत्र: चित्रकारी अंजलि इला मेनन भारत की बेहतरीन समकालीन कलाकारों में से एक हैं। उनके द्वारा बनाये...

अवनींद्रनाथ टैगोर

जन्म: 7 अगस्त 1871, कोलकाता, ब्रिटिश इंडिया मृत्यु: 5 दिसम्बर 1951, कोलकाता कार्यक्षेत्र: चित्रकारी, बंगाल स्कूल ऑफ़ आर्ट अवनींद्रनाथ टैगोर...

सतीश गुजराल

जन्म: 25 दिसम्बर, 1925, झेलम (अब पाकिस्तान) प्रसिद्धि: चित्रकार, मूर्तिकार, ग्राफ़िक डिज़ायनर, लेखक और वास्तुकार शिक्षण संस्थान: मेयो स्कूल आफ...

भारत की संस्कृति और सभ्यता संसार की प्राचीनतम संस्कृतियों में से है। यह संस्कृति कई चीज़ों के मेल-जोल का नतीजा है जिसमें देश का लम्बा इतिहास, विविध भूगोल और खुद की प्राचीन विरासत शामिल हैं। पड़ोसी और दुनिया के दूसरे देशों के रिवाज़, परम्पराओं और विचारों का भी इस संस्कृति में समावेश है। पिछली पाँच सहस्राब्दियों का इतिहास देखा जाए तो ये ज्ञात होता है की ये रीति-रिवाज़, भाषाएँ, प्रथाएँ और परंपराएँ एक-दूसरे से परस्पर संबंधों के कारण विकसित हुईं। विभिन्न धार्मिक प्रणालियाँ जैसे हिन्दू धर्म, जैन धर्म, बौद्ध धर्म और सिख धर्म जैसे धर्मों भी इसी संस्कृति में जन्मी और पली बढीं। इन विभिन्ताओं के मिश्रण से उत्पन्न हुए विभिन्न धर्म और परम्पराओं ने विश्व के अलग – अलग हिस्सों को भी काफ़ी प्रभावित किया है।

यहाँ हम भारत की संस्कृति और सभ्यता के विभिन्न पहलुओं जैसे धर्म, समाज, परम्परा एवं रीति, पहनावा, साहित्य, संगीत, नृत्य, नाटक और रंगमंच, चित्रकारी, मूर्तिकला, वास्तुकला,दर्शन शास्त्र और मनोरंजन आदि महत्वपूर्ण घटकों के बारे इन अलग-अलग भागों में विस्तार पूर्वक चर्चा करेंगे।